तुमसे जो मोहब्बत की थी, वो आज भी हैं

तुमसे जो मोहब्बत की थी,
वो आज भी हैं…..
अब भी लबो पे सिर्फ तेरा है नाम,
पर दिल में कुछ सवाल,
आज भी हैं…..
क्यों तूने न थामा मेरा हाथ…..???
क्यों तूने न दिया मेरा साथ……???
तेरे प्यार को न पाने का गम,
आज भी हैं…..
तेरे बिना मन मानता नहीं है मेरा…..
ख़्वाबों में अब भी चेहरा है तेरा…..
तेरे लिए जो ख़त लिखें थे,
वो आज भी हैं…..
तेरे बिना कैसे ज़िंदा हुँ पता नहीं…..
तेरे सिवा किसी और से इश्क़ हुआ नहीं…..
तेरे लिए जो बेचैनी थी,
आज भी हैं…..
तेरे ही आने का इंतज़ार है अब…..
ज़िंदगी में बस तेरा ही प्यार है अब…..
तेरी एक झलक देखने का वो पागलपन
आज भी है……
कहाँ है तू और किस दुनिया में, पता नहीं…..
लेकिन तेरे बिना मेरा मन किसी दुनिया में लगता नहीं …..
तेरे लिए सब कुछ छोड़ने का वो इरादा,
आज भी हैं…..
तुमसे जो मोहब्बत की थी,
वो आज भी हैं …..

8 thoughts on “तुमसे जो मोहब्बत की थी, वो आज भी हैं”

  1. aye sharma ji…ye lo hmari taraf se …
    tumne na jane kyu kia hme rukhsat
    pr dil me tumhare liye izzat
    aaj bhi h ..
    beshak dil me bheed zarur ho gyi h
    pr tumhari special jagah khali
    aaj bhi h…
    ab ldne k din km hi bche h
    ye jaanta hu me
    lekin un nokjhokh k chhipi wo
    muskuraht yaad aaj bhi h..
    chlo ab jaa rahe ho to haste hue bhejenge
    pr hm jante h ki tum me
    hmse ladne ki aag,
    …” khaaj “bhi h

    1. thank u gaggu this is very awesome and mene tujhe rukhsat nh kia u was my best junior and always be oll the best in your lyf and ek mahina aur hu me jaan khane k lie

  2. I am so proud of you Any… May god bless u…. Tere saath rehkr thodi bhut mughe bhi shayri aa gyi… thanks jaan n all the best… keep it up??

    1. I am so proud of you Anu… May god bless u…. Tere saath rehkr thodi bhut mughe bhi shayri aa gyi… thanks jaan n all the best… keep it up??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *